7 घंटे से कम सोने वाले जरुर पढ़ ले ये खबर, वैज्ञानिकों के इस दावे ने दुनिया भर में मचाया हडकंप…

0
26

ये तो सभी जानते हैं कि सेहतमंद रहने के लिए अच्छी और भरपूर नींद बहुत जरूरी है. लेकिन कम ही लोग जानते होंगे कि अच्छी सेहत के लिए व्यक्ति को कितने घंटे की नींद लेनी चाहिए? आप अगर रोजाना 7 घंटे से कम सोते हैं, तो ये आपके लिए एक चिंता का विषय है. हाल ही में हुई एक स्टडी की रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि की गई है. आइए जानते हैं क्या कहती है स्टडी की रिपोर्ट….

Loading...

एक नई स्टडी में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि 7 घंटे से कम समय की नींद लेने से इंसान का DNA हमेशा के लिए डैमेज हो सकता है. साथ ही कैंसर जैसी घातक बीमारी होने का खतरा भी अधिक होता है. 

स्टडी की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि नींद की कमी के कारण DNA की खुद को रिपेयर करने की क्षमता भी कम होती है, जिससे कई जेनेटिक बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है. 

शोधकर्ताओं का मानना है कि नींद की कमी के कारण युवाओं की जींस में होने वाले प्रभाव के बारे में जानकारी देने वाली ये पहली स्टडी है. बता दें, ये स्टडी उन डॉक्टर्स पर की गई है, जिन्हें नाइट शिफ्ट के कारण अपने नींद के पैटर्न में बदलाव करने पड़ते हैं. 

शोधकर्ताओं के मुताबिक, अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए करीब 7 घंटे की नींद बेहद जरूरी है. लेकिन आंकडों के मुताबिक, आधुनिक जीवन में ज्यादातर लोग 5 से 6 घंटे की नींद लेते हैं. 

HUG DAY : दिनभर में 8 बार गले मिलने से होते हैं ये बड़े फायदे

यह स्टडी यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग के शोधकर्ताओं द्वारा की गई है. इस स्टडी में 2 हॉस्पिटल के 49 डॉक्टर्स को शामिल किया गया, जिनमें 24 डॉक्टर ऐसे थे, जिन्होंने पूरी रात ड्यूटी की. साथ ही डॉक्टर्स ने दोपहर से अगली सुबह तक काम किया. काम के चलते स्टडी में शामिल कुछ डॉक्टर्स सिर्फ 2 से 4 घंटे की नींद ही ले पाए, जबकि कुछ डॉक्टर्स सिर्फ एक घंटा ही सोए. 

शोधकर्ताओं की टीम ने 2 बार डॉक्टर्स के ब्लड सैंपल लिए. पहला 3 दिन तक अच्छी नींद लेने के बाद और दूसरा, नाइट शिफ्ट करने के बाद सुबह के समय. 

‘एनेस्थीसिया जर्नल’ में प्रकाशित इस स्टडी के नतीजों में सामने आया कि जिन डॉक्टर्स ने रातभर जागकर नाइट शिफ्ट की उनके DNA को दूसरे लोगों के मुकाबले 30 फीसदी तक नुकसान पहुंचा. स्टडी की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि जिन डॉक्टर्स ने कम नींद ली, उनके  DNA ने रिपेयर होने में काफी समय लिया, जिससे शरीर मे मौजूद कई कोशिकाएं नष्ट हो गईं.

स्टडी के मुख्य लेखक ने बताया,  DNA के डैमेज होने से इसकी बनावट में बदलाव आ जाता है, जिसकी कभी मरम्मत नहीं की जा सकती है. वहीं, DNA के डबल स्ट्रेंड्स का ब्रेक होना चिंता का विषय है. इसके अलावा भी नींद की कमी के कारण कई गंभीर बीमारियां होने की अधिक संभावना होती है. 

स्टडी के सह लेखक और हांगकांग यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर गोर्डोन वॉन्ग टिन-चन ने बताया, स्टडी के आधार पर ये कहा जा सकता है कि नींद की कमी से व्यक्ति की जींस पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है. 

उन्होंने आगे कहा, कि ऐसी स्थिति में व्यक्ति को कैंसर होने की अधिक संभावना होती है. हालांकि, अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि आखिर कम नींद लेने से  DNA डैमेज क्यों होता है. 

शोधकर्ताओं का मानना है कि इस स्टडी के माध्यम से लोगों में अच्छी नींद लेने के प्रति जागरूकता बढ़ेगी, जिससे लोग अपनी नींद के पैटर्न को सही कर सकेंगे. इसके साथ ही शोधकर्ताओं ने बताया कि उम्र के हिसाब से लोगों को निर्धारित समय के लिए नींद लेना जरूरी होता है. 

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक, 18 से 60 वर्ष के लोगों को कम से कम 7 घंटे की नींद लेनी जरूरी होती है.  शोधकर्ताओं ने बताया कि खराब नींद के कारण व्यक्ति को मोटापा, दिल की बीमारी और डायबिटीज होने का भी अधिक खतरा रहता है. 

नेशनल हेल्थ सर्विस के मुताबिक, कम नींद लेने से जल्दी मौत होने के खतरे के साथ कैंसर होने का खतरा भी अधिक होता है. 

 

हिंदी न्यूज़ पोर्टल UjjawalPrabhat.Com की अन्य मजेदार खबरों के लिए आएँ हमारी वेबसाइट पर.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here