25 सितंबर को मंगल का कन्या राशि में होगा प्रवेश, बन रहा है अद्भुत योग

0
7

अदम्य साहसी एवं पराक्रमी ग्रह पृथ्वी पुत्र मंगल 25 सितंबर की सुबह 6 बजकर 31 मिनट पर कन्या राशि में प्रवेश करेंगे, जहां ये पहले से ही विराजमान सूर्य, बुध और शुक्र के साथ युति करेंगे। इस प्रकार 10 नवंबर तक मंगल कन्या राशि में ही विचरण करते रहेंगे। मंगल का बुध के साथ समभाव संबंध है अतः इनका कन्या राशि में जाना मिलाजुला फल देगा। मंगल मेष और वृश्चिक राशि के स्वामी होते हैं, कर्क राशि इनकी नीचसंज्ञक राशि कही गई है। कुंडली ज्योतिष में मंगल पराक्रम एवं नेतृत्व प्रधान क्षमता के प्रतीक माने गए हैं। शरीर में मंगल का रक्त कोशिकाओं एवं रक्त संचार से सीधा संबंध है, इसीलिए मंगल का राशि परिवर्तन हमेशा से ज्योतिष जगत के लिए जिज्ञासा का केंद्र बना रहता है। यदि आपकी जन्मकुंडली में मंगल शुभ प्रभाव में हैं या गोचर में इनकी अच्छी स्थिति है तो आपके जीवन में आने वाली परेशानियां काफी हद तक कम हो जाएंगी। यहां पर चतुर्ग्रही योग के कारण मंगल का सभी 12 राशियों पर कैसा प्रभाव रहेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण करते हैं।

Loading...

मेष राशि- राशि से छठे शत्रुभाव में मंगल का जाना आपको ऋण रोग और शत्रुओं से मुक्ति दिलाएगा किंतु, व्यर्थ का व्यय भी कराएगा। कोर्ट कचहरी के मामलों में निर्णय आपके अनुकूल आएगा, स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

वृषभ राशि- वृषभ राशि वालों के लिए पंचम भाव में मंगल का प्रवेश शिक्षा-प्रतियोगिता में सफलता के साथ साथ संतान संबंधी चिंता से भी मुक्ति भी दिलाएगा। प्रेम संबंधी मामलों में निराशा हाथ लगेगी। अतः सावधान रहें और कार्य पर ध्यान दें।

मिथुन राशि- मिथुन राशि वालों के लिए चतुर्थ भाव में मंगल का जाना मानसिक अशांति देगा। कुछ पारिवारिक कलह का भी सामना करना पड़ सकता है। मित्रों से मधुर संबंध बनाकर रखें। मकान वाहन के क्रय का योग बनेगा।

कर्क राशि- कर्क राशि वालों के लिए मंगल साहसी और पराक्रमी बनाएगा। आपके द्वारा लिए गए निर्णय और किए गए कार्यों की सराहना होगी। अपनी जिद और आवेश पर नियंत्रण रखे, परिवार में मतभेद पैदा न होने दें।

सिंह राशि- सिंह राशि वालों के लिए धनभाव में मंगल का जाना मिलाजुला फल देगा क्योंकि, आपकी राशि के लिए मंगल योग कारक हैं। कार्य क्षेत्र की दृष्टि से तो अच्छा है किसी महंगी वस्तु का क्रय भी कर सकते हैं। नेत्र विकार से बचें।

कन्या राशि- कन्या राशि में मंगल के साथ अन्य ग्रहों का योग बेहतरीन लाभ देगा किंतु, ये आपके धैर्य एवं संयम की परीक्षा भी लेगा। बेहतर है कि अपनी रणनीतियों को गुप्त रखते हुए कार्य योजनाओं को अंतिम रूप दें।

तुला राशि- तुला राशि वालों के लिए बारहवें भाव में मंगल अधिक व्यय कराएंगे। यात्रा देशाटन का लाभ तो मिलेगा। वाहन सावधानीपूर्वक चलाएं दुर्घटना से बचें। झगड़े विवाद से भी बचे रहना भी बेहतर रहेगा।

वृश्चिक राशि- वृश्चिक राशि से लाभ भाव में मंगल का जाना आय के साधन बढ़ाएगा। रुका हुआ धन आएगा। किसी बड़ी कार्ययोजना का संकल्प पूर्ण होगा। शासन सत्ता का बेहतरीन उपयोग कर सकते हैं। समय अनुकूल है लाभ उठाएं।

धनु राशि- धनु राशि वालों के लिए दशम कर्मभाव में मंगल का जाना पद और गरिमा की वृद्धि कराएगा। किसी नए अनुबंध की प्राप्ति के योग है। विदेशी व्यक्ति अथवा विदेशी कंपनी से लाभ लेना चाहे तो समय अनुकूल है।

मकर राशि- मकर राशि वालों के लिए भाग्यभाव में मंगल का जाना धार्मिक कार्यों के प्रति जागरूकता बढ़ाएगा। तीर्थयात्रा और देशाटन का लाभ मिलेगा। सामाजिक पद प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नए कार्य विस्तार के साथ-साथ नए अनुबंध भी हासिल कर सकते हैं।

कुंभ राशि- कुंभ राशि वालों के लिए अष्टमभाव में मंगल स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालेंगे। अपने कार्यक्षेत्र में उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाकर रखें। षड्यंत्र का शिकार होने से बचें। माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

मीन राशि- मीन राशि वालों के लिए सप्तम पत्नीभाव में मंगल दांपत्य जीवन में कडवाहट ला सकते हैं। इसे व्यर्थ में तूल न दें। व्यापार की दृष्टि से समय अपेक्षाकृत बेहतर रहेगा। शिक्षा प्रतियोगिता में आशातीत सफलता मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here