परिवार संग ले छुट्टियों का भरपूर मजा, करें भारत के इन 5 चमत्कारी मंदिरों के दर्शन

0
16

भारत को धर्म भूमि के नाम से जाना जाता हैं, क्योंकि यहाँ कई धर्मों का वास हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं हिन्दू धर्म के बने मंदिरों की। भारत में मंदिरों की बहुत महत्ता है, और हो भी क्यों नहीं यहाँ मंदिर हैं ही इतने चमत्कारी। इस आध्यात्म देश में ऐसे कई मंदिर हैं जो अपने चमत्कारों और विचित्रापन की वजह से देश-विदेश में बहुत प्रसिद्द हुए। लेकिन आज तक इन मंदिरों का रहस्य कोई नहीं जान पाया। तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही रहस्यमयी मंदिरों के बारे में।

Loading...

mysterious temple,mysterious temple in india,most mysterious temple,karni mata temple,kiradu temple,kamakhya temple,jwalamukhi temple,shani shingnapur temple,travel,holidays ,शनि शिंगणापुर,ज्वालामुखी मंदिर,कामाख्या मंदिर,किराडू मंदिर,करनी माता का मंदिर

* करनी माता का मंदिर 

करनी माता का यह मंदिर जो बीकानेर (राजस्थान) में स्थित है, बहुत ही अनोखा मंदिर है। इस मंदिर में रहते हैं लगभग 20 हजार काले चूहे। लाखों की संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु यहां अपनी मनोकामना पूरी करने आते हैं। करणी देवी, जिन्हें दुर्गा का अवतार माना जाता है, के मंदिर को ‘चूहों वाला मंदिर’ भी कहा जाता है। यहां चूहों को काबा कहते हैं और इन्हें बाकायदा भोजन कराया जाता है और इनकी सुरक्षा की जाती है। यहां इतने चूहे हैं कि आपको पांव घिसटकर चलना पड़ेगा। अगर एक चूहा भी आपके पैरों के नीचे आ गया तो अपशकुन माना जाता है। कहा जाता है कि एक चूहा भी आपके पैर के ऊपर से होकर गुजर गया तो आप पर देवी की कृपा हो गई समझो और यदि आपने सफेद चूहा देख लिया तो आपकी मनोकामना पूर्ण हुई समझो।

mysterious temple,mysterious temple in india,most mysterious temple,karni mata temple,kiradu temple,kamakhya temple,jwalamukhi temple,shani shingnapur temple,travel,holidays ,शनि शिंगणापुर,ज्वालामुखी मंदिर,कामाख्या मंदिर,किराडू मंदिर,करनी माता का मंदिर

* किराडू मंदिर 

राजस्थान के बारमेर जिले में स्थित इस किराडू के मंदिर विषय में ऐसी मान्यता है कि यहां शाम ढ़लने के बाद जो भी रह जाता है वह या तो पत्थर का बन जाता है या मौत की नींद सो जाता है। किराडू के विषय में यह मान्यता वर्षों से चली आ रही है। पत्थर बन जाने के डर से यहां शाम ढ़लते ही पूरा इलाका विरान हो जाता है।

mysterious temple,mysterious temple in india,most mysterious temple,karni mata temple,kiradu temple,kamakhya temple,jwalamukhi temple,shani shingnapur temple,travel,holidays ,शनि शिंगणापुर,ज्वालामुखी मंदिर,कामाख्या मंदिर,किराडू मंदिर,करनी माता का मंदिर

* कामाख्या मंदिर 

यह मंदिर तीन हिस्सों में बना है। इसका पहला हिस्सा सबसे बड़ा है, जहां पर हर शख्स को जाने नहीं दिया जाता है। दूसरे हिस्से में माता के दर्शन होते हैं, जहां एक पत्थर से हर समय पानी निकलता है। कहते हैं कि महीने में एकबार इस पत्थर से खून की धारा निकलती है। ऐसा क्यों और कैसे होता है, यह आजतक किसी को ज्ञात नहीं है?

mysterious temple,mysterious temple in india,most mysterious temple,karni mata temple,kiradu temple,kamakhya temple,jwalamukhi temple,shani shingnapur temple,travel,holidays ,शनि शिंगणापुर,ज्वालामुखी मंदिर,कामाख्या मंदिर,किराडू मंदिर,करनी माता का मंदिर

* ज्वालामुखी मंदिर 

ज्वाला देवी का प्रसिद्ध ज्वालामुखी मंदिर हिमाचल प्रदेश के कालीधार पहाड़ी के मध्य स्थित है। यह भी भारत का एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ है, जिसके बारे में मान्यता है कि इस स्थान पर पर माता सती की जीभ गिरी थी। माता सती की जीभ के प्रतीक के रुप में यहां धरती के गर्भ से लपलपाती ज्वालाएं निकलती हैं, जो नौ रंग की होती हैं। इन नौ रंगों की ज्वालाओं को देवी शक्ति का नौ रुप माना जाता है। किसी को यह ज्ञात नहीं है कि ये ज्वालाएं कहां से प्रकट हो रही हैं? ये रंग परिवर्तन कैसे हो रहा है? आज भी लोगों को यह पता नहीं चल पाया है यह प्रज्वलित कैसे होती है और यह कब तक जलती रहेगी? कहते हैं, कुछ मुस्लिम शासकों ने ज्वाला को बुझाने के प्रयास किए थे, लेकिन वे विफल रहे।

mysterious temple,mysterious temple in india,most mysterious temple,karni mata temple,kiradu temple,kamakhya temple,jwalamukhi temple,shani shingnapur temple,travel,holidays ,शनि शिंगणापुर,ज्वालामुखी मंदिर,कामाख्या मंदिर,किराडू मंदिर,करनी माता का मंदिर

* शनि शिंगणापुर 

देश में सूर्यपुत्र शनिदेव के कई मंदिर हैं। उन्हीं में से एक प्रमुख है महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में स्थित शिंगणापुर का शनि मंदिर। विश्वप्रसिद्ध इस शनि मंदिर की विशेषता यह है कि यहां स्थित शनिदेव की पाषाण प्रतिमा बगैर किसी छत्र या गुंबद के खुले आसमान के नीचे एक संगमरमर के चबूतरे पर विराजित है। यहां शिगणापुर शहर में भगवान शनि महाराज का खौफ इतना है कि शहर के अधिकांश घरों में खिड़की, दरवाजे और तिजोरी नहीं हैं। दरवाजों की जगह यदि लगे हैं तो केवल पर्दे। ऐसा इसलिए, क्योंकि यहां चोरी नहीं होती। कहा जाता है कि जो भी चोरी करता है उसे शनि महाराज सजा स्वयं दे देते हैं। इसके कई प्रत्यक्ष उदाहरण देखे गए हैं। शनि के प्रकोप से मुक्ति के लिए यहां पर विश्वभर से प्रति शनिवार लाखों लोग आते हैं।

हिंदी न्यूज़ पोर्टल UjjawalPrabhat.Com की अन्य मजेदार खबरों के लिए आएँ हमारी वेबसाइट पर.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here